रोने वाला ही गाता है – गोपालदास “नीरज” (Gopaldas Neeraj)

0
28
रोने वाला ही गाता है !

रोने वाला ही गाता है (कविता)

– गोपालदास “नीरज”(Gopaldas Neeraj)

रोने वाला ही गाता है !

मधु-विष हैं दोनों जीवन में
दोनों मिलते जीवन-क्रम में
पर विष पाने पर पहले मधु-मूल्य अरे, कुछ बढ़ जाता है।
रोने वाला ही गाता है !

प्राणों की वर्त्तिका बनाकर
ओढ़ तिमिर की काली चादर
जलने वाला दीपक ही तो जग का तिमिर मिटा पाता है।
रोने वाला ही गाता है !

अरे! प्रकृति का यही नियम है
रोदन के पीछे गायन है
पहले रोया करता है नभ, पीछे इंद्रधनुष छाता है।
रोने वाला ही गाता है !

–  Gopal Das Neeraj

Read More Kavita

वीर तुम बढ़े चलो! धीर तुम बढ़े चलो!

अफ़सोस नहीं इसका हमको – गोपाल सिंह नेपाली

वह कहता था, वह सुनती थी – शरद कोकास

हम सब सुमन एक उपवन के – द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

Leave a Reply