आदमी की सबसे अच्छी नस्ल युद्धों में नष्ट हो गई

0
34

आदमी की सबसे अच्छी नस्ल युद्धों में नष्ट हो गई

हिंदी कविता – सुदामा पाण्डेय “धूमिल “

 

बुद्ध की आँख से खून चू रहा था

नगर के मुख्य चौरस्ते पर

शोकप्रस्ताव पारित हुए

हिजड़ो ने भाषण दिए

लिंग-बोध पर

वेश्याओं ने कविताएँ पढ़ीं

आत्म-शोध पर

प्रेम में असफल छात्राएँ

अध्यापिकाएँ बन गई हैं

और रिटायर्ड बूढ़े

सर्वोदयी —

आदमी की सबसे अच्छी नस्ल

युद्धों में नष्ट हो गई

देश का सबसे अच्छा स्वास्थ्य

विद्यालयों में संक्रामक रोगों से ग्रस्त है

पिकनिक से लौटी हुई लड़कियाँ

प्रेम-गीतों से गरारे करती हैं

सबसे अच्छे मस्तिष्क

आरामकुर्सी पर चित्त पड़े हैं ।

Leave a Reply