जानिए भारतीय T20 महिला टीम की सबसे कम उम्र की कप्तान स्मृति मंधाना के बारे में

0
373
smriti mandhana hindi biography

भारत में पुरुष क्रिकेटरों को जीतना पब्लिसिटी और मान सम्मान मिलता है उतना महिला क्रिकेटरों को नहीं मिल पाता है लेकिन महिला क्रिकेट ने भी कुछ सालों में अच्छी खासी पहचान बना ली हैं . आज हम आपको भारतीय महिला क्रिकेट टीम की ऐसी खिलाडी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने महिला क्रिकेट की यह छवि बदलने में काफी अहम् भूमिका निभाई है . आज हम बात कर रहे हैं बाए हाथ की बल्लेबाज स्मृति मंधाना के बारे में.

Smriti Mandhana Biography in Hindi | स्मृति मंधाना का जीवन परिचय

स्मृति मंधाना का जन्म 18 जुलाई 1996 को मुम्बई के मारवाड़ी परिवार में हुआ था । उनके माता का नाम स्मिता और पिता का नाम श्रीनिवास मंधाना हैं । उनके पिता सांगली के केमिकल फैक्ट्री में डिस्ट्रीब्यूटरका कम करते है और उनकी माता स्मिता गृहिणी हैं। स्मृति ने अपनी प्रारंभिक पढाई माधवनगर से प्राप्त की थी।

भाई को क्रिकेट खेलते देखकर क्रिकेटर बनने का निश्चय किया

स्मृति मंधाना जब दो साल की थी तभी से अपने भाई श्रवण को देखकर बाएं हाथ से प्लास्टिक का बैट पकड़ना शुरू कर दिया था । स्मृति से चार साल बड़े भाई को उनके पिता बैटिंग की प्रैक्टिस कराते थे। स्मृति की मां चाहती थीं कि स्मृति टेनिस खेले। बचपन से अपने भाई को क्रिकेट खेलते देखकर एवं लोकल न्यूजपेपर्स में श्रवण के मैच की खबरें सुनकर स्मृति ने क्रिकेटर बनने का निश्चय किया । उनके पिता ने स्मृति में छिपे टैलेंट को पहचानते हुए उन्हें क्रिकेट पर फोकस करने की सलाह दी।

स्मृति के क्रिकेट खेलने पर लोग करते थे कमेंट

स्मृति ग्यारहवीं में साइंस लेना चाहती थी लेकिन उनकी मां ने पढ़ाई के बजाय खेल पर फोकस करने के लिए आसान विषय चुनने की सलाह दी। स्मृति के क्रिकेट खेलने पर शुरू में लोग कमेंट करते थे कि भारत में वुमंस क्रिकेट का कोई भविष्य नहीं है , लड़कियों को क्रिकेट खिलाने से कोई फायदा नहीं होगा । लेकिन स्मृति के पिता ने बिना लोगों की परवाह किए उनकी ट्रेनिंग जारी रखी। पिता और भाई दोनों सांगली जिले की ओर से क्रिकेट खेलते थे।

संगकारा की बैटिंग स्टाइल कॉपी करने पर कोच ने डांटा

श्रवण की तरह स्मृति भी राइट हैंडर थीं, लेकिन उनके पिता चाहते थे कि श्रवण और स्मृति बाएं हाथ से ही बैटिंग करें। इसीलिए उनके पिता ने स्मृति को दाएं हाथ से कभी बैटिंग ही नहीं करने दी। छह साल की उम्र से प्रोफेशनल ट्रेनिंग ले रहीं स्मृति इस बात से अनजान थीं कि पिता की यह जिद ही एक दिन उन्हें देश की नामी क्रिकेटर बना देगी। स्मृति कहती है की उन्होंने अपने भाई श्रवण के सारे शॉट कॉपी किए। बचपन में श्रीलंकाई क्रिकेटर कुमार संगकारा की बैटिंग स्टाइल को कॉपी करने पर उन्होंने कोच से डांट भी खाई थी। उनके कोच हमेशा नैचुरल गेम खेलने लिए प्रेरित करते थे।

CBI Full FormCRIME BRANCH को हिन्दी मे जाने

घरेलु मैच में दोहरा शतक लगाने वाली पहली महिला खिलाडी बनी

स्मृति जब 9 साल की थीं तो महाराष्ट्र अंडर 15 टीम के लिए उनका चयन हो गया था। इसके बाद 11 साल की उम्र में वे महाराष्ट्र अंडर 19 टीम का हिस्सा बनीं। स्मृति ने डोमेस्टिक मैच में नाम तब कमाया  । जब ये अक्टूबर 2013 में वेस्ट जोन अंडर 19 टूर्नामेंट के दौरान महाराष्ट्र की तरफ से एकदिवसीय मैचों में दोहरा शतक लगाया। ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय महिला खिलाड़ी थीं। इन्होंने 150 गेंदों में 224 रन बनाए थे।

राहुल द्रविड़ के बैट से ही बनाए शुरुआती शतक

सितंबर 2016 में वूमेन बिग बैस लीग में के लिए इन्होंने ब्रिस्बेन हीट के साथ एक साल का करार किया। 2016 में आईसीसी वूमेन टीम ऑफ द ईयर में चुनी जाने वाली वह एकलौती भारतीय खिलाड़ी थीं। स्मृति क्रिकेट के तीनो फॉर्मेट में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं । स्मृति ने अप्रैल 2013 में वनडे क्रिकेट मैच से इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था। जिसके बाद उन्होंने टेस्ट में अपना करियर अगस्त 2014 को इंग्लैंड के खिलाफ वोर्म्स्ली पार्क में की थी. इस टेस्ट की दोनों परियों में स्मृति ने 22 और 51 का योगदान दिया था.  उन्होंने अपने क्रिकेट कॅरिअर में शुरुआती शतक राहुल द्रविड़ के बैट से ही बनाए हैं। राहुल द्रविड़ ने अपना बैट उनके भाई श्रवण को साइन करके दिया था।

आईसीसी 2016 में महिला टीम में शामिल होने वाली एकमात्र भारतीय महिला खिलाड़ी

वर्ल्डकप 2017 में जब स्मृति ने क्वालीफ़ायर मुकाबले में इंग्लैंड के खिलाफ 90 रनों की बहुमूल्य पारी खेली थी तब से स्मृति को सभी लोग जानने लगे . इसके बाद उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्होंने 106 रन की आतिशी पारी भी खेली. मंधाना वुमन टीम की उन अहम् खिलाडियों में शामिल थी जिन्होंने टीम को फाइनल तक पहुँचाने में योगदान दिया था. स्मृति 2016 में आईसीसी महिला टीम में शामिल होने वाली एकमात्र भारतीय महिला खिलाड़ी थी।

गेम इंप्रूव होने की वजह चोटिल होना

स्मृति ने एक इंटरव्यू में बताया कि उनका गेम इंप्रूव होने की वजह उनका चोटिल होना भी रहा है ।
2017 में वुमंस क्रिकेट वर्ल्ड कप से छह महीने पहले उनके घुटने में चोट लग गई थी। इस कारण से नेशनल क्रिकेट अकेडमी, बेंगलुरु में उन्होंने छह महीने तक ट्रीटमेंट के दौरान आराम किया। स्मृति ने बताया कि पहले वे आउट हो जाती थीं, तो उसके कारणों पर घंटों सोचती और तनाव में आ जातीं, लेकिन चोटिल होने के दौरान खाली समय में उन्होंने ज्यादा सोचने और छोटी-छोटी चीजों का तनाव लेने के बजाय वर्तमान पर फोकस करना शुरू कर दिया। इससे उनकी गेम भी बेहतर हो गई।

smriti mandhana hindi biography

सांगली की मीठी भेल है फेवरेट

स्मृति को खाली समय में प्लेस्टेशन-4 पर फीफा खेलना पसंद है , इसके अलावा उन्हें बॉलीवुड फिल्में देखना, म्यूजिक सुनना और खाना बनाना पसंद है। खाने में सांगली की मीठी भेल उनकी फेवरिट है। पसंदीदा शो भी कुकिंग का रिएलिटी शो ‘मास्टरशेफ ऑस्ट्रेलिया’ है। जब उनकी मां ने पहली बार लैपटॉप खरीदकर दिया, तो स्मृति ने सबसे पहले उसमें अपने ड्रीम रेस्तरां का मैन्यू ही टाइप किया था। स्मृति ‘एसएम-18’ नाम से क्रिकेट एकेडमी भी चला रही हैं

स्मृति मंधाना के बारे में महत्वपूर्ण रोचक तथ्य: (Interesting Facts about Smriti Mandhana in Hindi)

  • Mandhana was the first Indian woman to score a double hundred in a one day game, playing for Maharashtra against Gujarat in October 2013.
  • She idolises Matthew Hayden and Kumar Sangakkara.
  • She played with bat gifted by Rahul Dravid when she scored unbeaten 224 in West Zone U-19 Cricket League against Gujarat.
  • It was Smriti’s brother who inspired her to take up cricket at an age of 6. That turned
  • She wears the same number of jersey (18) as Virat Kohli.
  • She is the brand ambassador for POWER brand of Bata.
  • She is a big fan of fellow cricketer Jhulan Goswami and looks up to her as a role model.
  • Smriti was named in the 2019 Forbes Top 30 Under 30 for her exceptional performance.
  • She started 2019 being the top ranked batswoman in ICC’s rankings.
  •  
  • She was the only Indian batsman to be named in the ICC Women’s team of the year.
  • Her first ODI century was against Australia in Hobart where she knocked a punch of 102 runs.
  • Smriti Mandhana is the 2nd Indian cricketer to sign a 1-year deal with Brisbane Heat for the Women’s Big Bash League, following Indian skipper Harmanpreet Kaur.

Leave a Reply